बसर कर ली जीन्दगी हमने (काव्य रचना )

बसर कर ली जीन्दगी हमने (काव्य रचना )

कर ली बसर हमने जीन्दगी यूही हालात का फसाना बन कर। तमाम तमन्नाए सभी रह गई हकीकत बन कर। ब्यान … पढ़ना जारी रखें बसर कर ली जीन्दगी हमने (काव्य रचना )