त्रिजटा का सपना ( स्वपन ) ( लेख रचना )

त्रिजटा का सपना ( स्वपन ) ( लेख रचना )

त्रिजटा नाम राच्छसी एका राम चरण रति निपून विवेका। सबन्हौ बोलि सुनाएसि सखि सपना। सीतही सई करुहु हीत अपना।। इस … पढ़ना जारी रखें त्रिजटा का सपना ( स्वपन ) ( लेख रचना )

अँगुलीमार ( ज्ञानवर्धक कहानी )

अँगुलीमार ( ज्ञानवर्धक कहानी )

कहानियाँ ऐसी जिसमे ज्ञान और प्रेरणा दोनो का समावेश हो, तो वह कहानी आदर्श होती है। ऐसी कहानियो को पढ … पढ़ना जारी रखें अँगुलीमार ( ज्ञानवर्धक कहानी )

राधा नही कृष्ण सखि कभी ( काव्य रचना )

राधा नही कृष्ण सखि कभी ( काव्य रचना )

राधा नही है कृष्ण सखि कभी। राधा नही है कृष्ण सखि कभी। मेने पुछा साँवरे से कि तुम्हारी प्रिया है … पढ़ना जारी रखें राधा नही कृष्ण सखि कभी ( काव्य रचना )

कौन हुँ मै हस्ति क्या मेरी  साँवरे— ( काव्य रचना )

कौन हुँ मै हस्ति क्या मेरी साँवरे— ( काव्य रचना )

कौन हुँ मै हस्ति क्या है मेरी साँवरे जान ना पाये है। माट्टी का पुतला है, माट्टी मे ही मिल … पढ़ना जारी रखें कौन हुँ मै हस्ति क्या मेरी साँवरे— ( काव्य रचना )

भए प्रकट कृपाला दीन दयाला ( काव्य रचना )

भए प्रकट कृपाला दीन दयाला ( काव्य रचना )

राम जी जब पैदा हुए तो उनके अदभूद रुप को देख माँ कौशलया विष्मित हो गई। आँखो से खुशी के … पढ़ना जारी रखें भए प्रकट कृपाला दीन दयाला ( काव्य रचना )

शिव के बारह ज्योतिरलिंगो के दर्शन,वर्णन

शिव के बारह ज्योतिरलिंगो के दर्शन,वर्णन

आज महाशिवरात्रि के इस पावन पर्व पर एक नजर प्रसिद्ध बारह ज्योतिर्लिंगो के बारे मे तो चलीए दर्शन करने आईए … पढ़ना जारी रखें शिव के बारह ज्योतिरलिंगो के दर्शन,वर्णन

भला है, अकेलापन मतलबी दुनिया मे बेगानो की भीड से कही

भला है, अकेलापन मतलबी दुनिया मे बेगानो की भीड से कही

भला है, अकेलापन मतलबी दुनिया की भीड से। लोग कहते है,हो तुम अकेले । हम भी मुस्कुरा देते है, कहाँ … पढ़ना जारी रखें भला है, अकेलापन मतलबी दुनिया मे बेगानो की भीड से कही